बृहदारण्यकोपनिषद अध्याय-3 ब्राह्मण-5  

  • इस ब्राह्मण में कहोल और याज्ञवल्क्य के मध्य शास्त्रार्थ का विवरण है।
  • इसमें पुन: 'ब्रह्म' के अपरोक्ष रूप और 'आत्मा' के सर्वान्तर रूप के विषय में प्रश्न हैं।
  • इसका उत्तर देते हुए याज्ञवल्क्य कहते हैं कि तुम्हारी आत्मा ही सर्वान्तर में प्रतिष्ठित है।
  • आत्मा भूख, प्यास, जरा, मृत्यु, शोक और मोह से परे है।
  • इसे जानने के उपरान्त कोई इच्छा शेष नहीं रहती।
पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

बृहदारण्यकोपनिषद अध्याय-1

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः