वारिधार  

वारिधार नामक एक पर्वत का उल्लेख श्रीमद्भागवत पुराण[1] में हुआ है-

'श्रीशैलोवेंकटो महेन्द्रो वारिधारो विंध्यः।'
  • उपरोक्त संदर्भ से यह दक्षिण भारत का कोई पर्वत जान पड़ता है।
  • संभव है कि यह रामायण कालीन प्रसिद्ध नगरी किष्किंधा का 'प्रस्रवण' या 'प्रवर्षणगिरि' हो, क्योंकि वारिधार और प्रस्रवण[2] समानार्थक जान पड़ते हैं।[3]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. श्रीमद्भागवत 5, 19, 16
  2. =प्रवर्षण
  3. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 845 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=वारिधार&oldid=507751" से लिया गया