रामावत सम्प्रदाय  

रामावत सम्प्रदाय की स्थापना स्वामी रामानन्द ने की थी। ये रामानुज स्वामी की श्रीवैष्णव परम्परा में हुए थे।

  • रामानन्द स्वामी ने मध्य युग की नयी परिस्थिति में अपने सम्प्रदाय को उदार बनाया।
  • धर्म में जाति-पाति का बन्धन रामानन्द स्वामी ने ढीला किया और उसका द्वार सभी के लिए खोल दिया।
  • 'रामावत सम्प्रदाय' में सवर्ण, वर्णेत्तर, स्त्री, मुस्लिम आदि सभी दीक्षित थे।
  • इस सम्प्रदाय का मंत्र था- "रां रामाय नम:"।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

सम्बंधित लेख

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=रामावत_सम्प्रदाय&oldid=337501" से लिया गया