स्थानकवासी  

स्थानकवासी भारत के श्वेतांबर जैनों का एक आधुनिक उपसंप्रदाय। स्थानकवासी मूल समूह से इस अर्थ में भिन्न हैं कि वे मूर्ति पूजा एवं मंदिर के आचार को अस्वीकार करते हैं।[1]

  • इस सम्प्रदाय की स्थापना 17वीं सदी में लौंकाशाह के नेतृत्व में हुई थी, जो पहले 'लुंपाक' या 'लौकागच्छ' कहलाने वाले अमूर्ति पूजक संप्रदाय के सदस्य थे।
  • 'लुंपाक' तथा 'लौकागच्छ' दोनों समूहों की आस्था इस तर्क पर आधारित थी कि जैन धर्मशास्त्र में मूर्ति पूजा का उल्लेख नहीं है।
  • स्थानकवासी संज्ञा मंदिर के बजाय मुनियों के ठहरने के स्थान (स्थानक), जैसे- लौकिक स्थलों पर धार्मिक कर्तव्यों के निष्पादन को प्राथमिकता देने के कारण आई है।
  • इस समूह को कभी-कभी 'ढूंढिया' (खोजने वाला) भी कहते है।
  • स्थानकवासीयों से एक और समूह 'तेरापंथी' (जो 15 नियमों के मार्ग का अनुसरण करते हैं) निकला, जिसकी स्थापना 18वीं सदी में आचार्य भिक्कु ने की थी।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारत ज्ञानकोश, खण्ड-6 |लेखक: इंदु रामचंदानी |प्रकाशक: एंसाइक्लोपीडिया ब्रिटैनिका प्राइवेट लिमिटेड, नई दिल्ली |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 127 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=स्थानकवासी&oldid=494554" से लिया गया