अज़-ज़लज़ला  

अज़-ज़लज़ला इस्लाम धर्म के पवित्र ग्रंथ क़ुरआन का 99वाँ सूरा (अध्याय) है जिसमें 8 आयतें होती हैं।
99:1- जब ज़मीन बड़े ज़ोरों के साथ ज़लज़ले में आ जाएगी।
99:2- और ज़मीन अपने अन्दर के बोझे (मादनयात मुर्दे वग़ैरह) निकाल डालेगी।
99:3- और एक इन्सान कहेगा कि उसको क्या हो गया है।
99:4- उस रोज़ वह अपने सब हालात बयान कर देगी।
99:5- क्योंकि तुम्हारे परवरदिगार ने उसको हुक्म दिया होगा।
99:6- उस दिन लोग गिरोह गिरोह (अपनी क़ब्रों से) निकलेंगे ताकि अपने आमाल को देखे।
99:7- तो जिस शख्स ने ज़र्रा बराबर नेकी की वह उसे देख लेगा।
99:8- और जिस शख्स ने ज़र्रा बराबर बदी की है तो उसे देख लेगा।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अज़-ज़लज़ला&oldid=600033" से लिया गया