अल-आदियात  

अल-आदियात इस्लाम धर्म के पवित्र ग्रंथ क़ुरआन का 100वाँ सूरा (अध्याय) है जिसमें 11 आयतें होती हैं।
100:1- (ग़ाज़ियों के) सरपट दौड़ने वाले घोड़ो की क़सम।
100:2- जो नथनों से फ़रराटे लेते हैं।
100:3- फिर पत्थर पर टाप मारकर चिंगारियाँ निकालते हैं फिर सुबह को छापा मारते हैं।
100:4- (तो दौड़ धूप से) बुलन्द कर देते हैं।
100:5- फिर उस वक्त (दुश्मन के) दिल में घुस जाते हैं।
100:6- (ग़रज़ क़सम है) कि बेशक इन्सान अपने परवरदिगार का नाशुक्रा है।
100:7- और यक़ीनी ख़ुदा भी उससे वाक़िफ़ है।
100:8- और बेशक वह माल का सख्त हरीस है।
100:9- तो क्या वह ये नहीं जानता कि जब मुर्दे क़ब्रों से निकाले जाएँगे।
100:10- और दिलों के भेद ज़ाहिर कर दिए जाएँगे।
100:11- बेशक उस दिन उनका परवरदिगार उनसे ख़ूब वाक़िफ़ होगा।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अल-आदियात&oldid=514323" से लिया गया