अत-तीन  

अत-तीन इस्लाम धर्म के पवित्र ग्रंथ क़ुरआन का 95वाँ सूरा (अध्याय) है जिसमें 8 आयतें होती हैं।
95:1- इन्जीर और ज़ैतून की क़सम।
95:2- और तूर सीनीन की।
95:3- और उस अमन वाले शहर (मक्का) की।
95:4- कि हमने इन्सान बहुत अच्छे कैड़े का पैदा किया।
95:5- फिर हमने उसे (बूढ़ा करके रफ्ता रफ्ता) पस्त से पस्त हालत की तरफ फेर दिया।
95:6- मगर जो लोग ईमान लाए और अच्छे (अच्छे) काम करते रहे उनके लिए तो बे इन्तेहा अज्र व सवाब है।
95:7- तो (ऐ रसूल) इन दलीलों के बाद तुमको (रोज़े) जज़ा के बारे में कौन झुठला सकता है।
95:8- क्या ख़ुदा सबसे बड़ा हाकिम नहीं है (हाँ ज़रूर है)।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अत-तीन&oldid=514313" से लिया गया