अल-मसद  

अल-मसद इस्लाम धर्म के पवित्र ग्रंथ क़ुरआन का 111वाँ सूरा (अध्याय) है जिसमें 5 आयतें होती हैं।
111:1- अबु लहब के हाथ टूट जाएँ और वह ख़ुद सत्यानास हो जाए।
111:2- (आख़िर) न उसका माल ही उसके हाथ आया और (न) उसने कमाया।
111:3- वह बहुत भड़कती हुई आग में दाख़िल होगा।
111:4- और उसकी जोरू भी जो सर पर ईंधन उठाए फिरती है।
111:5- और उसके गले में बटी हुई रस्सी बँधी है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अल-मसद&oldid=514345" से लिया गया