अल-क़द्र  

अल-क़द्र इस्लाम धर्म के पवित्र ग्रंथ क़ुरआन का 97वाँ सूरा (अध्याय) है जिसमें 5 आयतें होती हैं।
97:1- हमने (इस क़ुरआन) को शबे क़द्र में नाज़िल (करना शुरू) किया।
97:2- और तुमको क्या मालूम शबे क़द्र क्या है।
97:3- शबे क़द्र (मरतबा और अमल में) हज़ार महीनो से बेहतर है।
97:4- इस (रात) में फ़रिश्ते और जिबरील (साल भर की) हर बात का हुक्म लेकर अपने परवरदिगार के हुक्म से नाज़िल होते हैं।
97:5- ये रात सुबह के तुलूअ होने तक (अज़सरतापा) सलामती है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अल-क़द्र&oldid=599361" से लिया गया