अल-क़ारियह  

अल-क़ारियह इस्लाम धर्म के पवित्र ग्रंथ क़ुरआन का 101वाँ सूरा (अध्याय) है जिसमें 11 आयतें होती हैं।
101:1- खड़खड़ाने वाली।
101:2- वह खड़खड़ाने वाली क्या है।
101:3- और तुम को क्या मालूम कि वह खड़खड़ाने वाली क्या है।
101:4- जिस दिन लोग (मैदाने हश्र में) टिड्डियों की तरह फैले होंगे।
101:5- और पहाड़ धुनकी हुई रूई के से हो जाएँगे।
101:6- तो जिसके (नेक आमाल) के पल्ले भारी होंगे।
101:7- वह मन भाते ऐश में होंगे।
101:8- और जिनके आमाल के पल्ले हल्के होंगे।
101:9- तो उनका ठिकाना न रहा।
101:10- और तुमको क्या मालूम हाविया क्या है।
101:11- वह दहकती हुई आग है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अल-क़ारियह&oldid=514325" से लिया गया