क्वथन  

(अंग्रेज़ी:Boiling)- रसायन विज्ञान में सामान्य ताप पर वाष्पीकरण की क्रिया द्रव की सतह से होती है व धीमी होती है। यदि द्रव का ताप बढ़ाते जायें, तो द्रव के सम्पूर्ण आयतन से बड़े-बड़े बुलबुले निकलने लगते हैं तथा द्रव तेजी से वाष्प में परिवर्तित होने लगता है तथा एक स्थिति आती है, जब द्रव का ताप स्थिर हो जाता है तथा तब तक स्थिर रहता है जब तक सम्पूर्ण द्रव वाष्पीकृत नहीं हो जाता। इस क्रिया को ही द्रव का 'क्वथन' कहते हैं तथा वह स्थिर ताप जिस पर क्वथन होता है, क्वथनांक कहलाता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=क्वथन&oldid=233702" से लिया गया