टंग्स्टन  

टंग्स्टन अथवा वोल्फ्रमा आवर्त सारणी के छठे अंतर्वर्ती समूह का तत्व है। टंग्स्टन का संकेत W, परमाणु संख्या 74, परमाणु भार 183.85 है। प्राकृतिक अवस्था में इसके पाँच स्थायी समस्थानिक पाए जाते हैं, जिनकी द्रव्यमान संख्याएँ 180, 182, 183, 184 तथा 186 हैं। इनके अतिरिक्त 181, 185 तथा 187 द्रव्यमान संख्याओं के रेडियधर्मी समस्थानिक कृत्रिम साधनों द्वारा निर्मित हुए हैं।

18 वी शताब्दी तक टंग्स्टन के अयस्क टिन के ही यौगिक माने जाते थे। सन्‌ 1781 में शेले नामक वैज्ञानिक ने यह सिद्ध किया कि इसके अयस्क में नवीन अम्ल वर्तमान है, जिसे उसने टंग्स्टिक अम्ल कहा। इसके बाद धातु द्वारा इस अम्ल के निर्माण की भी पुष्टि हुई। इस तत्व के दो मुख्य अयस्क हैं: शीलाइट और वोल्फ्रमाइट। टंग्स्टन के मुख्य उत्पादक बर्मा (वर्तमान म्यांमार), चीन, जापान, बोलिविया, संयुक्त राज्य अमरीका और आस्ट्रेलिया हैं।

टंग्स्टन धातु हवा में गरम करने पर अप्रभावित रहती है। खनिज अम्लों तथा अम्लराज का उसपर कोई प्रभाव नहीं होता। केबल सांद्र नाइट्रिक एवं हाइड्रोफलोरिक अम्ल के मिश्रण में टंग्स्टन विलेय है। क्षार के विलय द्वारा उस पर कोई अभिक्रिया नहीं होती, परंतु संगलित क्षार में वह विलेय है।

बिजली के बल्बों के तंतुओं में टंग्स्टन का बहुत उपयोग होता है। दूसरी धातुओं में मिलाने पर उनकी कठोरता बढ़ जाती है, जिस कारण टंग्स्टन का उपयोग काटने के औजार, शल्यचिकित्सा के यंत्र आदि की मिश्रधातुओं में होता है, क्योंकि ये मिश्रधातुएँ अम्ल, क्षार आदि से प्रभावित नहीं होतीं। एक्सरे उपकरण, थर्मायनिक वाल्ब, बिजली के जोड़ आदि में टंग्स्टन का उपयोग हो रहा है। टंग्स्टन मिश्रित इस्पात बहुत से विशेष कार्यों में उपयोगी सिद्ध हुआ है। इस कारण इस्पात उद्योग में इसका उपयोग बहुतायत से होता है। टंग्स्टन इस्पात के पुर्ज़े बहुत कठोर, टिकाऊ तथा न घिसने वाले होते हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=टंग्स्टन&oldid=311748" से लिया गया