गोविन्ददास आचार्य  

गोविन्ददास आचार्य चैतन्य महाप्रभु के शिष्य और समसामयिक थे तथा सन 1533 ई. के लगभग उपस्थित थे।

  • 'वैष्णव वंदना' एवं 'गैर-गणोद्देश-दीपिका' इन दोनों ग्रंथों में इनका उल्लेख है।
  • 'वैष्णव वंदना' के उल्लेखों से ज्ञात होता है कि इन्होंने राधा-कृष्ण की लीला संबंधी रचनाएँ 'विचित्र घामाली' की थीं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=गोविन्ददास_आचार्य&oldid=473771" से लिया गया