अपसढ़  

  • अपसढ़ बिहार में गया ज़िले में स्थित नवादा के पूर्वोत्तर में लगभग 15 मील दूर स्थित एक गाँव था।
  • जिसका उल्लेख मगध के उत्तरवर्ती गुप्त वंश के आदित्यसेन के अभिलेख में हुआ है।
  • इसी अभिलेख के कारण अपसढ़ जाना जाता है।
  • इसमें आदित्यसेन की माता द्वारा एक विहार और उसकी पत्नी द्वारा एक तड़ाग बनवाये जाने का उल्लेख है।
  • इसमें अंतिम गुप्त नरेशों के बारे में और उनकी मौखरियों से प्रतिद्वन्द्विता का भी ज़िक्र है, जो ऐतिहासिक दृष्टि से काफ़ी महत्त्वपूर्ण है।
  • यहाँ पर एक विशाल मन्दिर के अवशेष हैं। उसकी दीवारों पर रामायण के अनेक दृश्य अकिंत हैं।
  • इसका समय ईसा की छठी सदी के आस-पास अनुमान किया जाता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  • ऐतिहासिक स्थानावली | पृष्ठ संख्या= 27-28| विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अपसढ़&oldid=627227" से लिया गया