चिरांद  

चिरांद बिहार के सारण ज़िले में चिरांद नामक ग्राम स्थित है। इसके निकट नवपाषाणिक अवशेष प्राप्त हुए हैं।

  • बुर्ज़होम (कश्मीर) को छोड़कर अन्य किसी पुरातात्त्विक स्थल से इतनी अधिक मात्रा में नवपाषाणकालीन उपकरण नहीं मिले, जितने कि चिरांद ग्राम से प्राप्त हुए है।
  • सन 1962-1963 में प्रो.बी.पी.सिन्हा द्वारा इस स्थल का उत्खनन करवाया गया।
  • उत्खनन से पाँच प्रकार की संस्कृतियों के अवशेष मिले हैं।
  • इसकी कार्बन तिथि ई.पू. 4900 ज्ञात हुई है।
  • यह स्थल मैदानी क्षेत्र में गंगा, सोन, गंडक एवं घाघरा के संगम पर स्थित है।
  • यहाँ जो उपकरण पाए गए हैं, वे हिरणों के सींगों से निर्मित हैं।
  • मृद्भाण्डों पर चित्रांकन देखा गया है।
  • मृत्पात्रों पर ध्यान के भूसे के निशान तथा जले हुए चावल के दाने चिपके हुए प्राप्त हुए हैं।
  • इससे पता चलता है कि चिरांदवासी चावल की खेती करते थे।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=चिरांद&oldid=509749" से लिया गया