वैभार  

वैभार राजगृह[1], बिहार के निकट स्थित एक पर्वत है, जिसका नामोल्लेख महाभारत सभापर्व[2] में है-

'वैभारो विपलो शैलो वराहो वृषभस्तथा।'
  • इसका पाठांतर 'वैहार' है। पाली ग्रंथों में इसे 'वेभार' कहा गया है।[3]
  • 'सप्तपर्णि' (सोनभंडार) नामक गुहा इसी पहाड़ी में स्थित थी। यहाँ गौतम बुद्ध की मृत्यु के पश्चात् प्रथम 'बौद्ध धर्म संगति' का अधिवेशन हुआ था, जिसमें 500 भिक्षुओं ने भाग लिया था।
  • जैन ग्रंथ ‘विविधतीर्थकल्प’ में राजगृह की इस पहाड़ी के 'त्रिकुट' एवं 'खंडिक' नाम के दो शिखरो का उल्लेख है। पहाड़ी पर होने वाली अनेक औषधियों का भी वर्णन है। इस ग्रंथ के अनुसार सरस्वती नदी यहाँ प्रवाहित होती थी और 'मगध', 'लोचन' आदि नाम के जैन देवालय स्थित थे, जिनमें जैन अर्हतों की मूर्तियां थीं। कहा जाता है कि यहाँ देवालयों के निकट सिंह आदि हिंसक पशु भी सौम्यतापूर्वक रहते थे।[4]
  • प्राचीन समय में वैभार में 'रौहिणेय' नामक महात्मा का निवास था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. =राजगीर
  2. सभापर्व 21,2
  3. महावंश 3,19
  4. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 880 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=वैभार&oldid=512835" से लिया गया