रजाओना  

रजाओना बिहार स्थित एक ऐतिहासिक स्थान है। इस स्थान से पाटलीपुत्र की मूर्तिकला शैली के सुंदरतम उदाहरण प्राप्त हुए हैं, जिसमें खंडित स्तंभ प्रमुख है।

  • यहाँ से प्राप्त खंडित स्तम्भ में निम्न भाग नितांत सादे तथा वर्गाकार हैं। मध्य में दोनों ओर बाहर निकले हुए प्रक्षेप हैं। निचले प्रक्षेप के ऊपर एक पट्टक है, जो उभरे हुए चौखटे के अन्दर अंकित है। इस पर कैलास पर भगीरथ द्वारा शिव की पूजा, गंगावतरण, अर्जुन का शिव से वरदान प्राप्त करने आदि दृश्यों का सुंदर अंकन है।
  • प्रक्षेप से तनिक ऊपर अर्धवर्तुलों में कीर्तिमुख तथा सुपर्ण जैसे परंपरागत विषयों को उत्कीर्ण किया गया है।[1][2]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. एज ऑव दि इम्पीरियल गुप्ताज, पृ. 192
  2. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 774 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=रजाओना&oldid=516133" से लिया गया