एक्स्प्रेशन त्रुटि: अनपेक्षित उद्गार चिन्ह "३"।

रसिक सुमति

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें

रसिक सुमति रीति काल के कवि और ईश्वरदास के पुत्र थे। संवत 1785 इनका कविता काल है।

  • इन्होंने 'अलंकार चंद्रोदय' नामक एक अलंकार ग्रंथ कुवलया नंद के आधार पर दोहों में बनाया। पद्य रचना साधारणत: अच्छी है।
  • 'प्रत्यनीक' का लक्षण और उदाहरण इस प्रकार है-

प्रत्यनीक अरि सों न बस, अरि हितूहि दु:ख देय।
रवि सों चलै, न कंज की दीपति ससि हरि लेय


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

सम्बंधित लेख