रसिक सुमति  

रसिक सुमति रीति काल के कवि और ईश्वरदास के पुत्र थे। संवत 1785 इनका कविता काल है।

  • इन्होंने 'अलंकार चंद्रोदय' नामक एक अलंकार ग्रंथ कुवलया नंद के आधार पर दोहों में बनाया। पद्य रचना साधारणत: अच्छी है।
  • 'प्रत्यनीक' का लक्षण और उदाहरण इस प्रकार है-

प्रत्यनीक अरि सों न बस, अरि हितूहि दु:ख देय।
रवि सों चलै, न कंज की दीपति ससि हरि लेय


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

सम्बंधित लेख

टीका टिप्पणी और संदर्भ

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=रसिक_सुमति&oldid=593274" से लिया गया