Makhanchor.jpg भारतकोश की ओर से आप सभी को कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ Makhanchor.jpg

श्रीधर  

श्रीधर 'रीति काल' के कवि थे। इनका नाम 'श्रीधर' या 'मुरलीधर' मिलता है। श्रीधर प्रयाग के रहने वाले ब्राह्मण थे। संवत 1737 के लगभग वे उत्पन्न हुए थे। बाबू राधाकृष्ण दास ने इनके बनाए कई रीतिग्रंथों का उल्लेख किया है, जैसे-

  1. नायिकाभेद,
  2. चित्रकाव्य
  3. जंगनामा

इत गलगाजि चढयो फर्रुखसियर साह,
उत मौजदीन करी भारी भट भरती।
तोप की डकारनि सों बीर हहकारनि सों,
धौंसे की धुकारनि धामकि उठी धारती
श्रीधार नवाब फरजंदखाँ सुजंग जुरे,
जोगिनी अघाई जुग जुगन की बरती।
हहरयो हरौल, भीर गोल पै परी ही, तू न,


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध


आचार्य, रामचंद्र शुक्ल “प्रकरण 3”, हिन्दी साहित्य का इतिहास (हिन्दी)। भारतडिस्कवरी पुस्तकालय: कमल प्रकाशन, नई दिल्ली, पृष्ठ सं. 228-30।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=श्रीधर&oldid=429505" से लिया गया