एक्स्प्रेशन त्रुटि: अनपेक्षित उद्गार चिन्ह "३"।

गोविन्ददास चक्रवर्ती

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें

गोविन्ददास चक्रवर्ती आचार्य श्रीनिवास के प्रिय शिष्य और कवि थे। इनके द्वारा रचित कुछ ही पद प्राप्त हैं। गोविन्ददास कविराज इनके समसामयिक एवं गुरुभाई थे।

  • गोविन्ददास चक्रवर्ती 'बोराकुली' नामक ग्राम के निवासी भक्त और पदकर्ता थे।
  • इनके गुरु श्रीनिवास आचार्य थे। गोविन्ददास कविराज इनके समसामयिक एवं गुरुभाई थे।
  • गोविन्ददास चक्रवर्त्ती की निश्चित जन्म तिथि अज्ञात है। इनका रचना काल गोविन्ददास कविराज के ही आसपास है।
  • 'भक्तिरत्नाकर' ग्रंथ में इनके बारे में कहा गया है कि ये श्रीनिवास आचार्य के अतिप्रिय शिष्य थे एवं गीतल-वाद्य-विद्या में निपुण भक्ति मूर्ति थे।
  • वैष्णवदास एवं उद्धवदास ने अपने एक-एक पद में इनका उल्लेख किया है। इनके कुछ ही पद प्राप्त हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख