भीमस्वामी  

भीमस्वामी
Blankimage.png
विवरण भीमस्वामी संस्कृत भाषा के श्रेष्ठ कवि थे।
पूरा नाम भीमस्वामी
जन्म छठी शताब्दी
मुख्य रचनाएँ रावणार्जुनीय काव्य, कार्तवीर्य अर्जुन, रावण
भाषा संस्कृत
अद्यतन‎ 04:49, 22 जून 2017 (IST)

भीमस्वामी संस्कृत भाषा के श्रेष्ठ कवि थे। इनकी स्थिति छठी शताब्दी ई. के अंतिम चरण में मानी जाती है।

  • इनका 'रावणार्जुनीय काव्य' प्रसिद्ध है। 27 सर्गों वाले इस काव्य में कार्तवीर्य अर्जुन तथा रावण के युद्ध का वर्णन है।
  • भट्टि काव्य की तरह इस काव्य में भी काव्य के बहाने संस्कृत व्याकरण के नियमों के उदाहरण उपस्थित किए गए हैं, जिससे काव्य पक्ष कमज़ोर हो गया है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भीमस्वामी (हिंदी) भारतखोज। अभिगमन तिथि: 23 सितम्बर, 2015।

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=भीमस्वामी&oldid=599994" से लिया गया