खानवा  

खानवा राजस्थान में भरतपुर के निकट एक ग्राम है, जो फतेहपुर सीकरी से 10 मील (लगभग 16 कि.मी.) उत्तर-पश्चिम में स्थित है। 'भारतीय इतिहास' में प्रसिद्ध 'खानवा का युद्ध' मेवाड़ के राणा साँगा और बाबर के मध्य इसी स्थान पर शनिवार, 17 मार्च, 1527 ई. को हुआ था।

  • 'खानवा का युद्ध' जो कोई दस घंटे चला, अविस्मरणीय युद्धों में से एक है। यद्यपि राजपूत वीरता से लड़े, किंतु विजयश्री बाबर को हासिल हुई।
  • शायद ही कोई दूसरा ऐसा घमासान युद्ध हुआ हो, जिसका निर्णय अंतिम घड़ी तक तुला में लटका रहा।
  • पानीपत युद्ध का कार्य खानवा के युद्ध ने पूरा किया।
  • बाबर द्वारा राणा साँगा पर विजय प्राप्ति ने बाबर एवं उसके सैनिकों की चिंता समाप्त कर दी और वे अब भारत विजय के सपने को साकार कर सकते थे।
  • खानवा की विजय ने मुग़ल साम्राज्यवाद के बीजारोपण के मार्ग से बहुत बड़ी बाधा हटा दी थी।
  • राजपूतों की हार का एक कारण पवार राजपूतों की सेना का ठीक युद्ध के समय महाराणा को छोड़कर बाबर से जा मिलना था।
  • इस युद्ध के पश्चात् बाबर के क़दम भारत में पूरी तरह से जम गए, जिससे भावी महान् मुग़ल साम्राज्य की नींव पड़ी।
  • खानवा को 'कनवा' नाम से भी जाना जाता है।

इन्हें भी देखें: खानवा का युद्ध


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  • ऐतिहासिक स्थानावली | पृष्ठ संख्या= 130-131| विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=खानवा&oldid=629122" से लिया गया