सलमान ख़ान  

(सलमान खान से पुनर्निर्देशित)
सलमान ख़ान
सलमान ख़ान
पूरा नाम अब्‍दुल रशीद सलीम सलमान ख़ान
अन्य नाम सल्‍लू भाई, भाईजान
जन्म 27 दिसम्बर, 1965
जन्म भूमि इंदौर, मध्य प्रदेश
अभिभावक सुशीला और सलीम ख़ान
कर्म भूमि महाराष्ट्र
कर्म-क्षेत्र अभिनेता, फ़िल्म निर्माता
विद्यालय सिंधिया स्‍कूल, ग्वालियर, सेंट स्‍टैनिसलॉस हाईस्‍कूल, महाराष्ट्र
वर्तमान निवास गैलेक्सी अपार्टमेंट, बांद्रा, मुम्बई
अन्य जानकारी 15 जनवरी, 2008 को लंदन के मैडम तुसाद संग्रहालय में सलमान ख़ान की आदमकद मोम की प्रतिमा लगाई गई और इस तरह संग्रहालय में मोम की प्रतिमा के रूप में दिखाई देने वाले वे चौथे भारतीय अभिनेता बन गए।

सलमान ख़ान (अंग्रेज़ी: Salman Khan, पूरा नाम: अब्‍दुल रशीद सलीम सलमान ख़ान, जन्म: 27 दिसम्बर, 1965, इंदौर, मध्य प्रदेश) हिन्‍दी फ़िल्‍मों के मशहूर अभिनेता तो हैं हीं, इसके साथ-साथ वे निर्माता, टेलीविजन पर्सनालिटी और समाजसेवी भी हैं। उन्‍होंने अपने कॅरियर में कई छोटी-बड़ी फ़िल्‍मों में काम किया और धीरे धीरे उनके प्रशंसकों की संख्‍या लगातार बढ़ती गई। उन्‍होंने फ़िल्म इंडस्‍ट्री में अपना एक अलग मुकाम स्‍थापित किया है और वे हिंदी सिनेमा के अग्रणी अभिनेताओं में से एक हैं। मौजूदा समय में उन‍के चाहने वालों का ये आलम है कि उनके घर (गैलेक्‍सी अपार्टमेंट्स) के बाहर उनकी भीड़ लगी रहती है। उनके फैंस की दीवानगी कुछ ऐसी है कि उनकी एक झलक पाने के लिए उनके प्रशंसक बेताब रहते हैं। कई बार तो ऐसा हुआ है कि उनको अपने फैंस से काफ़ी दिक्‍कतों का भी सामना करना पड़ा है। टाइम्स सेलेबेक्‍स बॉलीवुड ऐक्‍टर्स इंडेक्‍स रेटिंग में वे बराबर टॉप पर रहते हैं। लोग उन्‍हें प्‍यार से सल्‍लू भाई, भाई जान आदि नामों से पुकारते हैं।[1]

परिचय

सलमान ख़ान का जन्‍म 27 दिसम्बर, 1965 को इंदौर, मध्‍य प्रदेश में हुआ था। उनके पिता का नाम सलीम ख़ान है, जो कि मशहूर फ़िल्‍म लेखक रहे हैं। उनकी माँ का नाम सुशीला चरक है। उनके पिता जम्मू कश्मीर से हैं और उनकी माँ महाराष्ट्रीयन हैं। पूर्व अभिनेत्री हेलेन उनकी सौतेली माँ हैं। उनके दो भाई भी हैं जिनका नाम अरबाज ख़ान और सोहेल ख़ान है। अरबाज की शादी अभिनेत्री मलाइका अरोड़ा ख़ान से हुई है। सलमान की दो बहनें भी हैं जिनका नाम अलवीरा और अर्पिता है।[1]

शिक्षा

सलमान ख़ान की पढ़ाई सिंधिया स्‍कूल, ग्वालियर से हुई, जहां वे अपने भाई अरबाज ख़ान के साथ पढ़ते थे। इसके बाद की पढ़ाई उन्‍होंने मुम्बई के बांद्रा इलाके में स्थित सेंटस्‍टैनिसलॉस हाईस्‍कूल से की।

व्यक्तिगत जीवन

सलमान ख़ान की सौतेली माँ हेलन बॉलीवुड के बीते ज़माने की एक मशहूर अभिनेत्री हैं, जिन्होंने उनके साथ 'खामोशी' (1996) और 'हम दिल दे चुके सनम' (1999) में सह-कलाकार के रूप में कार्य किया था। ये एक समर्पित बॉडीबिल्डर हैं। वे प्रतिदिन मेहनत करते हैं और मूवी तथा स्टेज शो में अपनी कमीज उतारने के लिए प्रसिद्ध हैं। अमेरिका की पीपुल पत्रिका द्वारा वर्ष 2004 में इन्हें दुनिया का 7वां सबसे सुंदर पुरुष और भारत के सबसे सुंदर पुरुष का खिताब मिला। बहुत-सी अभिनेत्रियों के साथ रोमांस और अपनी पूर्व प्रेमिका ऐश्वर्या राय, सोमी अली और संगीता बिजलानी के साथ संबंधों के बावजूद सलमान भारतीय मीडिया जगत में बालीवुड के सबसे चहेते कुंवारे अभिनेता बनते रहे हैं। अपने कैरियर में वह विभिन्न धर्मार्थ संस्थाओं से जुड़े हुए हैं।

फ़िल्मी कॅरियर

सलमान ख़ान ने अपने अभिनय कॅरियर की शुरुआत 1988 में सहायक अभिनेता के तौर पर फ़िल्‍म 'बीवी हो तो ऐसी' से की थी। 1989 में मुख्‍य अभिनेता के तौर पर उनकी पहली फ़िल्‍म 'मैंने प्‍यार किया' थी जो कि सुपरहिट रही थी। यह फ़िल्म भारत की सर्वाधिक कमाई वाली फ़िल्मों में से एक बन गई। इस फ़िल्म के लिए उन्हें फ़िल्मफ़ेयर का सर्वश्रेष्ठ नए अभिनेता का पुरस्कार मिला एवं फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के पुरस्कार के लिए नामांकन भी प्राप्त हुआ। उनकी फ़िल्‍म 'हम आपके हैं कौन' ने सभी का दिल जीता तो वहीं फ़िल्‍म 'तेरे नाम' में उनके अभिनय की काफ़ी प्रशंसा हुई और अपने अभिनय से उन्‍होंने सभी को भावुक कर दिया था। इसके बाद उन्‍होंने कई फ़िल्‍मों में काम किया, लेकिन पिछले कुछ वर्षों से उनके प्रशंसकों में इसलिए भी इजाफा हुआ क्‍योंकि उन्‍हें एक्‍शन फ़िल्‍मों में ज्‍यादा पसंद किया गया। फ़िल्‍म 'वांटेड' के बाद से उन्‍होंने लगातार हिट फ़िल्‍मों की झड़ी लगा दी है।[1]

वर्ष 2000 में इन्होंने छ: फ़िल्मों में काम किया जो आलोचकों की दृष्टि में व्यापार करने में असफल रहीं, इनमें से दो फ़िल्में जैसे 'हर दिल जो प्यार करेगा' और 'चोरी चोरी चुपके चुपके' कुछ सफल रहीं। इन दोनों में रानी मुखर्जी और प्रिटी जिन्टा इनकी सह कलाकार थीं। वर्ष 2001 तक देर से रिलीज होने वाली इनकी फ़िल्म 'चोरी चोरी चुपके चुपके' में इनके प्रदर्शन की सराहना की गई। सरोगेट चाइल्ड बर्थ के मुद्दे को सुलझाने वाली बालीवुड की यह पहली फ़िल्म थी जिसमें सलमान ने एक धनी उद्योगपति की भूमिका निभाई थी। वर्ष 2002 में इन्होंने फ़िल्म 'हम तुम्हारे हैं सनम' में काम किया जो बॉक्स ऑफिस पर सेमी हिट रही। उन्होंने 2003 में 'तेरे नाम' फ़िल्म से अपनी वापसी की।

सलमान ने 'मुझसे शादी करोगी' (2004) और 'नो एन्ट्री' (2005) जैसी हास्य फ़िल्मों के द्वारा बॉक्स ऑफिस पर अपनी सफलता जारी रखी। वर्ष 2006 इनकी फ़िल्में 'जान-ए-मन' और 'बाबुल' दोनों ही बॉक्स ऑफिस पर असफल रहीं। सलमान ने वर्ष 2007 की शुरुआत में इनकी फ़िल्म 'सलाम ए इश्क' आयी जो बॉक्स ऑफिस पर कुछ अच्छा न कर सकी। उसके बाद अगली फ़िल्म 'पार्टनर' का बॉक्स ऑफिस पर अच्छा प्रदर्शन रहा और इन्हें ब्लॉकबस्टर की छवि दिलवाई। इसके बाद वे हॉलीवुड की एक फ़िल्म में मैरीगोल्ड (Marigold: An Adventure in India) अमरीकी महिला कलाकार अली लार्टर के साथ दिखाई दिए। वर्ष 2008 में सलमान अपनी गेम शो 'दस का दम' के साथ छोटे परदे पर उतरे जो अंतरराष्ट्रीय शो पॉवर ऑफ़ टेन पर आधारित था।

प्रसिद्ध फ़िल्में

सलमान ख़ान ने अब तक बहुत सी फ़िल्मों में काम किया है, जो इस प्रकार हैं-

वर्ष फ़िल्म का नाम वर्ष फ़िल्म का नाम
1988 बीवी हो तो ऐसी 1989 मैंने प्यार किया
1990 बागी 1991 सनम बेवफा, पत्थर के फूल, कुर्बान, लव, साजन
1992 सूर्यवंशी, एक लड़का एक लड़की, जागृति, निश्चय 1993 चन्द्र मुखी, दिल तेरा आशिक
1994 अंदाज़ अपना अपना, हम आपके हैं कौन, चांद का टुकड़ा, संगदिल सनम 1995 करण अर्जुन, वीरगति
1996 मझधार, खामोशी, जीत, दुश्मन दुनिया का 1997 दीवाना मस्ताना, दस, औज़ार, जुड़वां
1998 प्यार किया तो डरना क्या, जब प्यार किसी से होता है, सर उठा के जियो, बंधन, कुछ कुछ होता है 1999 जानम समझा करो, बीवी नं. 1, सिर्फ तुम, हम साथ साथ हैं, हैलो ब्रदर, हम दिल दे चुके सनम
2000 दुल्हन हम ले जाएंगे, चल मेरे भाई, हर दिल जो प्यार करेगा, ढाई अक्षर प्रेम के, कहीं प्यार ना हो जाए 2001 चोरी चोरी चुपके चुपके
2002 तुमको ना भूल पाएंगे, हम तुम्हारे हैं सनम, ये है जलवा 2003 तेरे नाम, बागबान
2004 गर्व, मुझसे शादी करोगी, दिल ने जिसे अपना कहा 2005 लकी, मैंने प्यार क्यों किया?, नो एन्ट्री, क्यों की
2006 सावन, शादी करके फंस गया यार, बाबुल 2007 सलाम-ए-इश्क़, पार्टनर,
2008 गोड तुसी ग्रेट हो, हैलो, हीरोज 2009 मैं और मिसेज खन्ना, वांटेड, लंदन ड्रीम्स
2010 वीर 2011 दबंग
2014 दबंग 2, किक 2015 बजरंगी भाईजान
2016 सुल्तान

क़ानूनी विवाद

सलमान ख़ान पर एक से अधिक क़ानूनी केस हो चुके हैं जिनमें से कुछ का निपटारा हो गया है और कुछ मामले अभी भी विचाराधीन हैं। इनमें से मुख्य निम्न हैं[2]

  • 28 सितम्बर, 2002 को सलमान के खिलाफ लापरवाही से गाड़ी चलाते हुए फुटपाथ पर सोये हुए व्यक्ति की मृत्यु के सम्बन्ध में केस दायर किया गया जिस पर लम्बे समय तक चली। सुनवाई के बाद इन्हें दोषी नहीं पाया और इस केस में कुछ और पहलुओं के लिए जाँच अभी लंबित है। यह केस 'हिट एंड रन' (hit and run case) के नाम से जाना जाता है।
  • 17 फ़रवरी, 2006 को एक दुर्लभ प्रजाति के हिरन चिंकारा के शिकार के सम्बन्ध में उन्हें अदालत ने दोषी पाया और एक साल की सजा सुनाई लेकिन बाद में उच्च न्यायालय में अपील करने के बाद सजा पर रोक लगा दी गयी। यह मामला 'काले हिरन के शिकार' के नाम से मशहूर है। सलमान ने छह दिन जेल में भी बिताए, जहाँ से उन्हें 31 अगस्त, 2007 को जमानत मंजूर किये जाने के कारण इन्हें रिहा कर दिया गया।

नवोदित कलाकारों की परख

सलमान ख़ान इंडस्ट्री के एक ऐसे अकेले सुपरस्टार हैं, जो हमेशा अपने दोस्तों को साथ में लेकर चलने में विश्वास रखते हैं। इसके साथ उन्होंने ऐसे कई एक्टर और एक्ट्रेस के करियर को संभाला हैं, जो एक खास मौके की तलाश में रहते हैं। बिपाशा और सलमान की दोस्ती भी सालों पुरानी है। इसमें कोई दो राय नहीं है कि सलमान दोस्ती के मामले में दरियादिल इंसान हैं। उन्होंने अब तक कई लोगों के नाम के आगे अपना नाम जोड़ा है, जिनमें से कुछ इस प्रकार हैं[3]-

  • कैटरीना कैफ़- फ़िल्म बूम से कैटरीना कैफ़ ने अपने करियर की शुरुआत की थी। लेकिन एक साइड एक्टर की तरह इंडस्ट्री ने उन्हें नकार दिया था। ऐसे में उनकी मदद के लिए सलमान ख़ान ने हाथ आगे बढ़ाया। उन्होंने 'मैंने प्यार क्यों किया' और 'पार्टनर' फ़िल्म से कैटरीना को इंडस्ट्री में फिर लांच किया।
  • जैकलीन फर्नांडिस- अलादीन और मर्डर जैसी फ़िल्मों में जैकलीन का करियर कुछ खास रंग नहीं जमा पा रहा था। ऐसे में उनके कॅरियर को सलमान ख़ान ने अपनी फ़िल्म 'किक' से एक अच्छी हिट दी। इसके बाद वह 'ब्रदर्स' और 'हाउसफुल 3' जैसी फ़िल्मों का हिस्सा बनने लगीं।
  • सोनाक्षी सिन्हा- मशहूर एक्टर शत्रुघ्न सिन्हा की बेटी होने के बावजूद सोनाक्षी सिन्हा के लिए हिंदी सिनेमा में एंट्री के दरवाजे खोलने का रास्ता उनके परिवार को नहीं मिल रहा था। ऐसे में सलमान ख़ान की नजर सोनाक्षी पर पड़ी। उन्होंने अपनी सबसे लोकप्रिय फ़िल्म 'दबंग' की हिरोइन के तौर पर सोनाक्षी को कास्ट कर लिया। यह सिलसिला 'दबंग 2' में भी कायम रहा। वर्तमान में सोनाक्षी इतनी सक्षम हैं कि वह अपने बलबूते पर किसी भी फिल्म की जिम्मेदारी उठा सकती हैं।

सम्मान और पुरस्कार

  • 2016 में फ़िल्म 'बजरंगी भाईजान' के लिए राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार (बतौर निर्माता- सर्वश्रेष्ठ लोकप्रिय एवं मनोरंजक फ़िल्म)
  • 2012 में फ़िल्म 'चिल्लर पार्टी' के लिए राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार (बतौर निर्माता- सर्वश्रेष्ठ बाल फ़िल्म )
  • 15 जनवरी, 2008 को लंदन के मैडम तुसाद संग्रहालय में सलमान खान की आदमकद मोम की प्रतिमा लगाई गई और इस तरह संग्रहालय में मोम की प्रतिमा के रूप में दिखाई देने वाले वे चौथे भारतीय अभिनेता बन गए।
  • 1990 में फ़िल्म 'मैंने प्यार किया' के लिए सर्वश्रेष्ठ नवोदित कलाकार का पुरस्कार।
  • 1999 में फ़िल्म 'कुछ कुछ होता है' के लिए सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 सलमान ख़ान (हिंदी) hindi.filmibeat.com। अभिगमन तिथि: 22 फ़रवरी, 2017।
  2. पढ़िए मोस्ट वांटेड कुवांरे सलमान खान की जीवनी (हिंदी) www.hindibiography.org। अभिगमन तिथि: 22 फ़रवरी, 2017।
  3. इसलिए कहते हैं सलमान खान को बड़े दिलवाला (हिंदी) hindi.filmibeat.com। अभिगमन तिथि: 22 फ़रवरी, 2017।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सलमान_ख़ान&oldid=617527" से लिया गया