ग्रंथ  

गुरु ग्रंथ साहिब
  • ग्रंथ वह किताब या पुस्तक जिसके पन्ने या पृष्ठ प्राचीन समय में गाँठ बाँधकर रखे जाते थे।
  • ग्रंथ धार्मिक या साहित्यिक दृष्टि से कोई महत्त्वपूर्ण बड़ी पुस्तक है। ग्रंथ तथा अभिलेख लिखने के लिए जिस लिपि का दक्षिण भारत में उपयोग होता था, उसी को आगे चलकर ‘ग्रन्थ लिपि’ का नाम दिया गया।
Seealso.jpg इन्हें भी देखें: धर्मशास्त्रीय ग्रन्थ
पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

धर्मशास्त्रीय ग्रन्थ

एकदण्डिसन्न्यास विधि, सूरा, आयत (क़ुरआन), आगम प्रामाण्य, दशम ग्रंथ, दुर्गाभक्तितरंगिणी (विद्यापति), कीर्ति पताका, गयापत्तालक, शैवसर्वस्वसार, वर्षकृत्य, जपुजी, जपसाहेब, कुल्लजम साहेब, कुलचूडामणितन्त्र, प्रदीप (ग्रंथ), गुरु ग्रंथ साहिब, मिताक्षरा, विवाहकर्म ग्रन्थ, बृहद्देवता, धर्मशास्त्र, शांतिकल्पप्रदीप, ब्रह्मर्षि, शांतिकल्पदीपिका, शांतिकमलाकार, शातातपस्मृति, शाण्डिल्यस्मृति, शाण्डिल्यधर्मशास्त्र, शाण्डिल्यगृह्य, शांखायनगृह्यसंस्कार, विष्णुधर्ममीमांसा, शांखायनगृह्यसंस्कारपद्धति, विष्णुतीर्थीयव्याख्यान, विष्णुतत्त्वविनिर्णय, विष्णुतत्त्वप्रकाश, शाकलस्मृति, विषघटिकाजननशान्ति, विश्वेश्वरीस्मृति, शाकटायनस्मृति, विश्वेश्वरीपद्धति, विश्वेश्वरपद्धति, शरदक्षस्मृति, शतानन्दसंग्रह, विश्वेश्वरनिबन्ध, विश्वामित्रसंहिता, विश्वामित्रकल्प, शतश्लोकी, शतचण्डीसहस्त्रचण्डीप्रयोग, शतचण्डीविधानपद्धति, शतचण्डीप्रयोग, शतचण्डीपद्धति, शंखधरसमुच्चय, शंखचक्रधारणवाद, व्रात्यप्रायश्चित्तनिर्णय, शंकुप्रतिष्ठा, शंकरगीता, शकुनार्णव, व्रात्यस्तोमपद्धति, व्रतोद्यापनकौमुदी, व्रतोपवाससंग्रह, व्रताचार, व्रतार्क, व्रतसार, व्रतसागर, व्रतसमुच्चय, व्रतसंग्रह, व्रतविवेकभास्कर, शाम्बव्यगृह्यसूत्र, शांतिपुस्तक, शांतिनिर्णय, शांतिचरित्र, वृषभोत्सर्गपरिशिष्ट, वृषभोत्सर्ग, वृष्भदान, वृद्धिश्राद्ध, वृक्षाधापन, वीरशैवधर्मनिर्णय, विश्वामित्रकल्पतर, शांतिकल्याणी, शांखायनगृह्यपरिशिष्ट, शांखायनगृह्यनिर्णय, शांखायनगृह्यकारिका, शय्यादान, शत्रुमित्रोपशांति, शत्रुध्नी, शंकरभट्टी, व्रतोद्यापन, व्रतसंपात, शारदातिलक, विष्णुप्रतिष्ठापद्धति, विष्णुपूजापद्धति, विश्वामित्रकल्पतरु, व्यवहारसार (निर्णय सिन्धु), व्यवहारसार (मयाराम मिश्र), व्यवहारसर्वस्व, व्यवहारसमुच्चय (रघुनाथ), व्यवहारसमुच्चय (हरिगण), व्यवहारशिरोमणि, व्यवहाररत्नावली, व्यवहारमाला, व्यवहाररत्नाकर, व्यवहाररत्न, व्यवहारमाधव, व्यवहारमातृका, व्यवहारमयूख, व्यवहारप्रदीपिका, व्यवहारप्रदीप (पद्यनाभ मिश्र), व्यवहारप्रदीप (कृष्ण), व्यवहारप्रदीप (कल्याणवर्मा), व्यवहारप्रकाश (मित्रमिश्र), व्यवहारप्रकाश (शरभोजी), व्यवहारप्रकाश (हरिराम), वर्ज्याहारविवेक, व्यवहारपदन्यास, वर्णाश्रमधर्म, वर्णसारमणि, वैर्णशासन, वर्णकाचार, व्यवहारपरिशिष्ट, व्यवहारपरिभाषा, वपननिर्णय, व्यवहारनिर्णय (श्रीपति), व्यवहारनिर्णय (वरदराज), वटेश्वरसिद्धांत, वत्सस्मृति, व्यवहारनिर्णय (मयाराममिश्र गौड़), वचनसारसंग्रह, वंगिपुरेश्वरकारिका, लोहितस्मृति, लोकसागर, व्यवहारनिर्णय (शूद्रकमलाकर), लोकपालाष्टदान, लोकप्रकाश, लेखमुक्तामणि, व्यवहारदीपिका, लेखपद्धति, व्यवहारदीधिति, व्यवहारदशश्लोकी, व्यवहारदर्पण (रामकृष्ण भट्ट), व्यवहारदर्पण (अनन्तदेव याज्ञिक), व्यवहारतिलफ, व्यवहारतत्त्व (रघुनन्दन), व्यवहारतत्त्व (नीलकण्ठ), अवेस्ता, आचारांग, धर्मशास्त्रीय ग्रंथ, कुण्डोदद्योतदर्शन (अनंतदेव), क्रियानिबन्ध, कुरुक्षेत्रप्रदीप (वनमालिमिश्र), गृह्मपरिशिष्ट (वैकुण्ठनाथाचार्य), गृह्मपरिशिष्ट (अनंत भट्ट), गृह्मपद्धति, कुरुक्षेत्रानुक्रमणिका, कुरुक्षेत्ररत्नाकर, कुरुक्षेत्रतीर्थनिर्णय, कुण्डोदद्योतदर्शन (शंकरभट्ट), क्रियाकाण्डशेखर, क्रियाकौमुदी (मथुरानाथ), क्रियाकौमुदी (गोविन्दानन्द), कुण्डोदद्योत, विश्वादर्श, विश्वरूपसमुच्चय, विश्वरूपनिबन्ध, विश्वम्भरशास्त्र, विश्वप्रकाशिकापद्धति, विवेकार्णव, विश्वदेवदीक्षितीय, विश्वदीप, विवेककौमुदी, विवेकदीपक, विवेकमंजरी, विवेकसारवर्णन, विविधविद्याविचारचतुरा, विवाहाग्निनष्टिप्रायश्चित, विवाह्याकन्यास्वरूपनिर्णय, विवाहादिर्कानुष्ठानपद्धति, विवाहसौख्य, विशुद्विदर्पण, विवाहपद्धतिव्याख्या, विवाहप्रकरण, विवाहरत्न, विवाहरत्नसंक्षेप, विवाहवृन्दावन, विवाहपद्धति (नारायण भट्ट), विवाहपटलस्तवक, विवाहपद्धति (गौरीशंकर), विवाहपद्धति (चतुर्भुज), विवाहपद्धति (जगन्नाथ), विवाहपद्धति (नरहरि), विवाहपद्धति (रामचन्द्र), विवाहपद्धति (गणेश्वरात्मज रामदत्त राजपण्डित), विवाहपद्धति (अनूपविलास), विवाहपटल (हरिदेवसूरि), विवाहपटल (सारंगपाणि), विवाहनिरूपण (नन्दभट्ट), विवाहनिरूपण (वैद्यनाथ), विवाहद्विरागमनपद्धति, मुहूर्तमंजरी (यदुनंदन पण्डित), मुहूर्तमंजरी (हरिनारायण), मुहूर्तभैरव (गंगाधर), मुहूर्तभैरव (दीनदयालु पाठक)

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः