सेही  

सेही
सेही
जगत जीव - जन्तु
संघ रज्जुकी (Chordata)
वर्ग स्तनपायी (Mammalia)
गण कृंतक (रोडेन्शिया / Rodentia)
उपगण हिस्ट्रिकोमोरफा (Hystricomorpha)
अन्य जानकारी सेही सूअर की भाँती घुरघुर ध्वनियाँ निकालती है।
  • सेही (अंग्रेज़ी:Porcupine) अथवा साही अफ़्रीका और एशिया की प्राचीन दुनिया की सेहियाँ (हिस्ट्रिक्स) बड़ी, नाटी और छोटी टाँगों वाली कृंतक होती हैं जिनकी एक छोटी अपरिग्राही पुच्छ होते है।
  • शरीर और पुच्छ पृष्ठ ओर मोटे बालों के अतिरिक्त, सुरक्षा के लिए लम्बे, तेज़, उत्थानशील काले और सफ़ेद कंटकों या शूलों से आच्छादित होते हैं।
  • जैसा कि सामान्यतया विश्वास किया जाता है, सेहियाँ अपने कंटकों को फेंककर आक्रमण नहीं करती हैं।
  • भारतीय शिखरैधारी सेही, हिस्ट्रिक्स इन्डिका वनों, चट्टानी पहाड़ियों और तंग घाटियों में रहती हैं।
  • सेही दिन का अधिकांश समय अपने बिल में व्यतीत करती है, परंतु रात्री में फ़सलों, शाक-सब्ज़ियों और पौधों की जड़ों को खाने के लिए बाहर निकलती है।
  • सेही सूअर की भाँती घुरघुर ध्वनियाँ निकालती है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सेही&oldid=299336" से लिया गया