अंगनगर  

अंगनगर संभवत: चंपा का ही नाम है। बुद्धचरित[1] के अनुसार बुद्ध के अंगनगर में पूर्णभद्र यक्ष तथा कई नागों को प्रव्रजित किया था।



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. बुद्धचरित 21,11

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अंगनगर&oldid=469879" से लिया गया