नरक देश  

नरक देश का उल्लेख महाभारत, सभापर्व में हुआ है।[1] महाभारत के अनुसार यवनाधिप भगदत्त का मुर तथा नरक नाम के देशों पर राज्य था-

'मुरं च नरकं चैव शास्ति यो यवनाधिप:, अपर्यन्तवलो राजा प्रतीच्यां वरुणो यथा, भगदत्तो महाराज वृद्धस्तवपित्तु: सखा'[2]
  • उपर्युक्त उद्धरण से इंगित होता है कि इस देश की स्थिति पश्चिम दिशा में (भारत की उत्तर पश्चिमी सीमा पर) रही होगी।
  • राजा भगदत्त एक यवन (शायद ग्रीक) शासक था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 478 |
  2. महाभारत, सभापर्व 14, 14-15.

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=नरक_देश&oldid=282904" से लिया गया