अग्निज्वाल  

अग्निज्वाल पौराणिक ग्रंथों तथा हिन्दू मान्यताओं के अनुसार एक नरक का नाम है, जहाँ ऋषियों के आश्रम की शान्ति भंग करने वाले लोग जाते है।[1] जो कोई भी ऋषि आश्रमों के नियम तोड़ते हैं या अनियमित जीवन व्यतीत करते हैं, उन्हें भी इसी नरक में जाना पड़ता है।[2][3]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ब्रह्मपुराण 4.2.149,174
  2. वायुपुराण 101.148, 171
  3. पौराणिक कोश |लेखक: राणाप्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, आज भवन, संत कबीर मार्ग, वाराणसी |पृष्ठ संख्या: 10 |

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अग्निज्वाल&oldid=303495" से लिया गया