रोमा  

रोमा नाम के एक प्राचीन नगर का उल्लेख हिन्दू धार्मिक ग्रन्थ महाभारत, सभापर्व में हुआ है-

'अताखीं चैव रोमां च यवनानां पुरं तथा, दूतैरेव वशेचक्रे करं चैनानदापयत्।'[1]
  • पाण्डव सहदेव ने रोम, अंतियोकस तथा यवनपुर[2] नगरों को अपनी दिग्विजया यात्रा के प्रसंग में जीतकर इन पर कर लगाया था।[3]
  • रोम अवश्य ही 'रोमा' का रूपान्तरण है।
  • रोम-निवासियों का वर्णन महाभारत, सभापर्व[4] में, युधिष्ठिर के राजसूय यज्ञ में उपहार लेकर आने वाले विदेशियों के साथ भी किया गया है-
'द्वयक्षांत्र्यक्षांललाटक्षान् नानादिग्भ्य: समागतान् औष्णीकानन्त वासांश्च रोमकान् पुरुषादकान्।'


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. महाभारत, सभापर्व 31-72
  2. मिस्र देश में स्थित एलेग्जेड्रिया
  3. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 803 |
  4. सभापर्व 51-17

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=रोमा&oldid=518170" से लिया गया