अंगारवाहिका  

अंगारवाहिका का एक नदी तटवर्ती पितृ तीर्थ के रूप में वर्णन मत्स्यपुराण[1] में हुआ है। इस स्थान पर स्नान और दान करना उत्तम माना गया है तथा पितरों के लिए किया गया श्राद्ध अनन्तफल औऱ अति प्रशस्त माना गया है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. मत्स्यपुराण 22.35

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अंगारवाहिका&oldid=299944" से लिया गया