दुर्जया  

दुर्जया एक पौराणिक नगरी का नाम है, जिसका उल्लेख महाभारत, वनपर्व में आया है। ऐसा माना जाता है कि यह नगरी राजगृह (बिहार) के निकट स्थित थी।

'तत: स संप्रस्थितो राजा कौन्तेयो भूरिदक्षिण: अगस्त्याश्रममासाद्य दुर्जयायामुवास ह'[1]

अर्थात् "गया से चलकर प्रचुर दक्षिणा दान करने वाले युधिष्ठिर ने अगस्त्याश्रम में पहुँच कर दुर्जयापुरी में निवास किया।"

  • विश्वास किया जाता है कि दुर्जया नगरी राजगृह के निकट ही थी।
  • सम्भवत: दुर्जया को ही महाभारत, वनपर्व[2] में 'मणिमति' नगरी कहा है।
  • मणितमति नगरी नागों की उपासना के लिए प्रसिद्ध थी।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 439 |

  1. महाभारत, वनपर्व 96, 1.
  2. महाभारत, वनपर्व 69, 4

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=दुर्जया&oldid=275650" से लिया गया