अंशुधान  

अंशुधान एक पौराणिक स्थान है। वाल्मीकि रामायण[1] के अनुसार, भरत ने केकय, देश से अयोध्या आते समय, इस स्थान के पास, गंगा को दुस्तर पाया था और इस कारण उसे प्राग्वट के निकट पार किया था- 'भागीरथीं दुष्प्रतरां सोंऽशुधाने महानदीम्'। अंशुधान गंगा के पश्चिमी तट पर कोई स्थान था जिसका अभिज्ञान अनिश्चित है।




टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. रामायण 2,71,9

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अंशुधान&oldid=266247" से लिया गया