स्वर्ग  

Disamb2.jpg स्वर्ग एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- स्वर्ग (बहुविकल्पी)

स्वर्ग हिन्दू मान्यताओं और पुराणों के अनुसार सप्तलोकों में से एक है। विष्णु पुराण और भागवत पुराण के अनुसार यह सूर्यलोक से लेकर ध्रुवलोक तक विस्तृत माना गया है।

  • यहाँ देवताओं का निवास है और पुण्यात्मा लोगों की आत्माएँ मरने पर यहीं आती हैं।
  • स्वर्ग में दु:ख, रोग, शोक, मृत्यु आदि का नाम नहीं है।
  • इस स्थान की कल्पना नरक की कल्पना के बिलकुल ही विपरीत है।
  • महाभारत में दिये पांडवों की स्वर्ग-यात्रा से भी यह स्पष्ट है कि सभी लोग स्वर्ग नहीं जा सकते।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

पौराणिक कोश |लेखक: राणा प्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 544 |


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=स्वर्ग&oldid=546723" से लिया गया