प्रथूदक  

प्रथूदक एक देव तीर्थ है, जहाँ स्वामी कार्तिकेय, सनतकुमार, व्यास, रशंगु ऋषि ने जप-तप का विधान किया था। यहाँ जाप से मृत्यु से पश्चाताप नहीं होता है। महर्षि अर्ष्टिषेण ने यहाँ से सिद्धियाँ प्राप्त की थीं।

  • इस देव तीर्थ स्थान पर ही ऋषि सिंधुद्वीप, देवापि और तपस्वी विश्वामित्र ने ब्राह्मत्व पाया था।
  • राजा वेण के पुत्र प्रथु से भी इस स्थान का गहरा सम्बन्ध रहा है।
  • यही कारण है कि यह क्षेत्र 'प्रथूदक' (प्रथु-उदक) कहलाता है।
  • प्रथु ने द्वादश दिन तक वेण की मृत्यु के बाद उदक क्रिया की थी।
  • रशंगु ऋषि ने यहाँ देह-न्यास किया था।
  • बलराम ने इस स्थान के दर्शन किये और प्रचुर मात्रा में दान-दक्षिणा की थी।
  • यहाँ स्नान व तप से अश्वमेध के समान फल की प्राप्ति होती है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

भारतीय संस्कृति कोश, भाग-2 |प्रकाशक: यूनिवर्सिटी पब्लिकेशन, नई दिल्ली-110002 |संपादन: प्रोफ़ेसर देवेन्द्र मिश्र |पृष्ठ संख्या: 514 |

  1. महाभारत, शाल्यपर्व, अध्याय 38, वनपर्व, अध्याय 81, 38

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=प्रथूदक&oldid=469388" से लिया गया