तंगण देश  

Disamb2.jpg तंगण एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- तंगण (बहुविकल्पी)

तंगण देश का नाम यहाँ रहने वाली तंगण जाति के नाम हुआ था। तंगणों का उल्लेख महाभारत, भीष्मपर्व में हुआ है-

'मारुता येनुकाश्चैव तंगणा: परतंगणा: बाह्निकास्तित्तिराश्चैव चौला: पांड्याश्च भारत'[1]
  • उपर्युक्त श्लोक में तंगण जाति के उल्लेख से ज्ञात होता है कि तंगण देश भारत के उत्तर-पश्चिम सीमा के परे स्थित रहा होगा।
  • महाभारत, सभापर्व[2] में भी तंगण और परतंगण लोगों का उल्लेख है-
'पारदाश्च पुलिंदाश्य तंगणा: परतंगणा:।'
  • उपर्युक्त श्लोक में तंगणों को मेरु और मंदिर पर्वतों के बीच में बहने वाली शैलोदा नदी के प्रदेश में बताया गया है। शैलोदा वर्तमान खोतन नदी है।
  • तंगण देश के पार्श्व में परतंगण देश की स्थिति रही होगी। श्री वासुदेवशरण अग्रवाल के मत में कुल्लू-कांगड़ा के पूरब का भोट क्षेत्र ही तंगण जाति का इलाका था।[3]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. महाभारत, भीष्मपर्व 50, 51
  2. सभापर्व 52-53
  3. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 385 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=तंगण_देश&oldid=558748" से लिया गया