आ घिर आई दई मारी घटा कारी। -अमीर ख़ुसरो  

आ घिर आई दई मारी घटा कारी। -अमीर ख़ुसरो
अमीर ख़ुसरो
कवि अमीर ख़ुसरो
जन्म 1253 ई.
जन्म स्थान एटा, उत्तर प्रदेश
मृत्यु 1325 ई.
मुख्य रचनाएँ मसनवी किरानुससादैन, मल्लोल अनवर, शिरीन ख़ुसरो, मजनू लैला, आईने-ए-सिकन्दरी, हश्त विहिश
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची
अमीर ख़ुसरो की रचनाएँ
  • आ घिर आई दई मारी घटा कारी। -अमीर ख़ुसरो

आ घिर आई दई मारी घटा कारी।
बन बोलन लागे मोर दैया री,बन बोलन लगे मोर।
रिम-झिम रिम-झिम बरसन लागी छाय री चहुँ ओर।
आज बन बोलन लगे मोर।
कोयल बोल डार-डार पर पपीहा मचाए शोर।
ऐसे समय साजन परदेस गए बिरहन छोर।
















संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आ_घिर_आई_दई_मारी_घटा_कारी।_-अमीर_ख़ुसरो&oldid=212975" से लिया गया