इनेसिदेमस  

इनेसिदेमस एक यूनानी दार्शनिक जिसका जन्म शायद ई.पू. प्रथम शताब्दी में क्नोसस में हुआ था। इसका दृष्टिकोण संदेहवादी था। वह सत्य और कार्य-कारण-भाव में विश्वास नहीं करता था। जीवधारियों के प्रत्यक्षों की सापेक्षिकता के कारण सत्य का स्वरूप निरपेक्ष नहीं हो सकता। यही बात कारण के संबंध में भी लागू होती है। फिर कार्य और कारण का संबंध भी अचिंत्य है। इनेसिदेमस की युक्तियाँ आधुनिक संदेहवादियों की युक्तियों के साथ विलक्षण समानता रखती हैं। दियोगेनेस लीएर्तियस्‌ की 'दार्शनिकों के जीवनचरित' नामक पुस्तक में उसकी चार रचनाओं के नाम मिलते हैं।[1]



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 1 |प्रकाशक: नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 527 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=इनेसिदेमस&oldid=631805" से लिया गया