भेष लियो पै भेद न जान्यो -रैदास  

भेष लियो पै भेद न जान्यो -रैदास
रैदास
कवि रैदास
जन्म 1398 ई. (लगभग)
जन्म स्थान काशी, उत्तर प्रदेश
मृत्यु 1518 ई.
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची
रैदास की रचनाएँ
  • भेष लियो पै भेद न जान्यो -रैदास

भेष लियो पै भेद न जान्यो।
अमृत लेई विषै सो मान्यो।। टेक।।
काम क्रोध में जनम गँवायो, साधु सँगति मिलि राम न गायो।।1।।
तिलक दियो पै तपनि न जाई, माला पहिरे घनेरी लाई।।2।।
कह रैदास परम जो पाऊँ, देव निरंजन सत कर ध्याऊँ।।3।।


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=भेष_लियो_पै_भेद_न_जान्यो_-रैदास&oldid=353301" से लिया गया