अजब सलुनी प्यारी मृगया नैनों -मीरां  

अजब सलुनी प्यारी मृगया नैनों -मीरां
मीरांबाई
कवि मीरांबाई
जन्म 1498
जन्म स्थान मेरता, राजस्थान
मृत्यु 1547
मुख्य रचनाएँ बरसी का मायरा, गीत गोविंद टीका, राग गोविंद, राग सोरठ के पद
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची
मीरांबाई की रचनाएँ
  • अजब सलुनी प्यारी मृगया नैनों -मीरां

अजब सलुनी प्यारी मृगया नैनों। तें मोहन वश कीधोरे॥ध्रु०॥
गोकुळमां सौ बात करेरे बाला कां न कुबजे वश लीधोरे॥1॥
मनको सो करी ते लाल अंबाडी अंकुशे वश कीधोरे॥2॥
लवींग सोपारी ने पानना बीदला राधांसु रारुयो कीनोरे॥3॥
मीरा कहे प्रभु गिरिधर नागर चरणकमल चित्त दीनोरे॥4॥


संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अजब_सलुनी_प्यारी_मृगया_नैनों_-मीरां&oldid=322408" से लिया गया