अब कै माधव, मोहिं उधारि -सूरदास  

Icon-edit.gif इस लेख का पुनरीक्षण एवं सम्पादन होना आवश्यक है। आप इसमें सहायता कर सकते हैं। "सुझाव"
अब कै माधव, मोहिं उधारि -सूरदास
सूरदास
कवि महाकवि सूरदास
जन्म संवत 1535 वि.(सन 1478 ई.)
जन्म स्थान रुनकता
मृत्यु 1583 ई.
मृत्यु स्थान पारसौली
मुख्य रचनाएँ सूरसागर, सूरसारावली, साहित्य-लहरी, नल-दमयन्ती, ब्याहलो
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची
सूरदास की रचनाएँ
  • अब कै माधव, मोहिं उधारि -सूरदास

अब कै[1] माधव, मोहिं उधारि।[2]
मगन[3] हौं भव[4] अम्बुनिधि[5] में, कृपासिन्धु मुरारि॥
नीर अति गंभीर माया, लोभ लहरि तरंग।
लियें जात अगाध जल में गहे ग्राह[6] अनंग॥[7]
मीन इन्द्रिय अतिहि काटति, मोट[8] अघ सिर भार।
पग न इत उत धरन पावत, उरझि मोह सिबार॥[9]
काम क्रोध समेत तृष्ना, पवन अति झकझोर।
नाहिं चितवत देत तियसुत नाम-नौका ओर॥
थक्यौ बीच बेहाल बिह्वल, सुनहु करुनामूल।
स्याम, भुज गहि काढ़ि डारहु, सूर ब्रज के कूल॥[10]

 


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. अबकी बार ,इस जन्म में।
  2. उद्धार करो।
  3. मग्न, डूबा हुआ।
  4. संसार।
  5. समुद्र।
  6. मगर।
  7. काम वासना।
  8. =गठरी।
  9. शैवाल, पानी के अन्दर उगनेवाली घास जिसमें मनुष्य प्रायः फंस जाता है
  10. किनारा।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अब_कै_माधव,_मोहिं_उधारि_-सूरदास&oldid=257703" से लिया गया