अब या तनुहिं राखि कहा कीजै -सूरदास  

Icon-edit.gif इस लेख का पुनरीक्षण एवं सम्पादन होना आवश्यक है। आप इसमें सहायता कर सकते हैं। "सुझाव"
अब या तनुहिं राखि कहा कीजै -सूरदास
सूरदास
कवि महाकवि सूरदास
जन्म संवत 1535 वि.(सन 1478 ई.)
जन्म स्थान रुनकता
मृत्यु 1583 ई.
मृत्यु स्थान पारसौली
मुख्य रचनाएँ सूरसागर, सूरसारावली, साहित्य-लहरी, नल-दमयन्ती, ब्याहलो
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची
सूरदास की रचनाएँ
  • अब या तनुहिं राखि कहा कीजै -सूरदास

अब या तनुहिं राखि कहा कीजै।
सुनि री सखी, स्यामसुंदर बिनु बांटि[1] विषम विष पीजै॥
के गिरिए गिरि चढ़ि सुनि सजनी, सीस संकरहिं दीजै।[2]
के दहिए दारुन दावानल[3] जाई जमुन धंसि लीजै॥
दुसह बियोग अरी, माधव को तनु दिन-हीं-दिन छीजै।[4]
सूर, स्याम अब कबधौं मिलिहैं, सोचि-सोचि जिय जीजै॥[5]

 


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पीसकर।
  2. यह सिर काट-कर शिव पर चढ़ा दिया जाय।
  3. वन में लगी हुई आग।
  4. क्षीण होता है।
  5. जी रहा है।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अब_या_तनुहिं_राखि_कहा_कीजै_-सूरदास&oldid=257854" से लिया गया