धूमावती मन्दिर दतिया  

धूमावती मन्दिर मध्य प्रदेश के दतिया ज़िले में स्थित प्रसिद्ध शक्तिपीठ 'पीताम्बरा पीठ' के प्रांगण में स्थित है। पूरे भारत में यह माँ धूमावती का एक मात्र मन्दिर है, जिसकी मान्यता भी अधिक है।

  • माना जाता है कि 'पीताम्बरा पीठ' की स्थापना एक संत, जिन्हें स्वामीजी महाराज कहा जाता था, ने की थी।
  • स्थानीय किंवदंती के अनुसार पीठ के परिसर में माँ धूमावती की स्थापना न करने के लिए अनेक विद्वानों ने स्वामीजी महाराज से आग्रह किया था। तब स्वामी जी ने कहा कि- "माँ का भयंकर रूप तो दुष्टों के लिए है, भक्तों के प्रति ये अति दयालु हैं।"
  • समूचे विश्व में धूमावती माता का यह एक मात्र मन्दिर है।
  • जब माँ पीताम्बरा पीठ में माँ धूमावती की स्थापना हुई थी, उसी दिन स्वामी महाराज ने अपने ब्रह्मलीन होने की तैयारी शुरू कर दी थी। ठीक एक वर्ष बाद माँ धूमावती जयन्ती के दिन स्वामी महाराज ब्रह्मलीन हो गए।
  • माँ धूमावती की आरती सुबह-शाम होती है, लेकिन भक्तों के लिए धूमावती का मन्दिर शनिवार को सुबह-शाम 2 घंटे के लिए खुलता है।
  • यह भी विशेष तथ्य है कि माँ धूमावती को नमकीन पकवान, जैसे- मंगोडे, कचौड़ी व समोसे आदि का भोग लगाया जाता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=धूमावती_मन्दिर_दतिया&oldid=350781" से लिया गया