सोनगिरि  

सोनगिरि
सोनगिरि के जैन मन्दिर
विवरण 'सोनगिरि' मध्य प्रदेश में स्थित एक पवित्र तीर्थ स्थान है। यहाँ के मन्दिर जैन धर्म के 'दिगम्बर सम्प्रदाय' के पवित्रतम स्थान है।
राज्य मध्य प्रदेश
ज़िला दतिया
भौगोलिक स्थिति दतिया, मध्य प्रदेश से 15 किलोमीटर की दूरी पर।
प्रसिद्धि हिन्दू तीर्थ स्थान
क्या देखें नारियल कुण्ड, बाजनी शिला
संबंधित लेख मध्य प्रदेश, पीताम्बरा पीठ, दतिया
अन्य जानकारी सोनगिरि में प्राकृतिक रमणीयता से परिपूर्ण पहाड़ पर प्राचीन 77 शिखर युक्त जैन मन्दिर है। तलहटी में आबादी भी है, जिसे 'सनावल' गाँव के नाम से जानते हैं।

सोनगिरि मध्य प्रदेश के दतिया से 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। झाँसी-दतिया मुख्य रेलवे लाइन पर स्थित सोनगिरि एक मुख्य तीर्थ स्थान है। यह स्थान और यहाँ के मन्दिर जैन धर्म के 'दिगम्बर सम्प्रदाय' के पवित्रतम स्थान है। इतिहास में सोनगिरि क्षेत्र पर भट्टारकों की चार गट्टियाँ रही थीं, जो ग्वालियर के भट्टारकों की शाखा के रूप में स्थापित हुई थीं। इस तीर्थ स्थल को प्रकृति ने अपनी भरपूर छटा से संवारा, इतिहास ने स्तुत्य गौरव प्रदान किया और अधयात्म ने इसे तपोभूमि बनाकर निर्वाण के कारण सिद्ध क्षेत्र बनाया है।

इतिहास

सोनगिरि का प्राचीन नाम 'श्रमणांचल', 'श्रमणगिरि' और 'स्वर्णगिरि' रहा है। जैन परंपरा के अनुसार सोनगिरि से करोडों साधुओं ने निर्वाण की प्राप्ति की और अष्टम तीर्थंकर चन्द्रप्रभ के समवरण का भी यहाँ अनेक बार आगमन हुआ था।

णंगाणंग कुमारा कोटी पंचद्व मुणिवरे सहिता।
सोनगिरिवरसिहरे णिव्वणगया णमों तेसिं।।

अर्थात "श्रीपुर के महाराजा अरिंजय, मालव देश के महामण्डलिक सम्राट धनंजय और तिलिंग देश के महाबली नरेश अमृत विजय और 1500 अन्य राजा महाराजाओं ने इस तीर्थ से चन्द्रप्रभ भगवान के समवरण में दीक्षा ली थी। महाराज असिंजय के विलक्षण पुत्र नंग और अनंग दोनों राजकुमारों ने उत्तम राजभोग त्यागकर भरी जवानी में चन्द्रप्रभ की देशना से प्रभावित होकर 'जिन' दीक्षा ग्रहण की थी। उज्जैन के महाराज श्रीदत्त इन्हीं मुनिवरों के प्रभाव से 2000 राजाओं के साथ दिगम्बर मुनि हुये थे।[1]

जैन मन्दिर

सोनगिरी के मन्दिर जैन धर्म के 'दिगम्बर सम्प्रदाय' के पवित्र तीर्थ स्थान हैं। इसी स्थान पर राजा नंगनाग ने अपने 15 मिलियन अनुयायियों के साथ मोक्ष प्राप्त किया था। भक्तगणों और संतों के बीच यहाँ के मन्दिर बहुत लोकप्रिय है। वे यहाँ आकर मोक्ष प्राप्ति और आत्मानुशासन का अभ्यास करते हैं। सोनगिरि में प्राकृतिक रमणीयता से परिपूर्ण पहाड़ पर प्राचीन 77 शिखर युक्त जैन मन्दिर है। तलहटी में आबादी भी है, जिसे 'सनावल' गाँव के नाम से जानते हैं। पर्वत के अतिरिक्त तलहटी में अठारह जैन मन्दिर और पन्द्रह धर्मशालायें भी तीर्थ यात्रियों की सुविधा हेतु निर्मित हैं। आधुनिक निर्माण जारी है। पहाड़ी पर बना 57 नंबर का मन्दिर यहाँ का मुख्य मन्दिर है। इस मन्दिर में जैन तीर्थंकर चन्द्रप्रभ की ग्यारह फीट ऊंची आकर्षक प्रतिमा स्थापित है। यहाँ भगवान शीतलनाथ और पार्श्वनाथ तीर्थंकर की भी सुंदर प्रतिमाएँ स्थापित हैं।

अन्य आकर्षक स्थल

सोनगिरि क्षेत्र पर भट्टारकों की चार गट्टियाँ रही थीं, जो ग्वालियर के भट्टारकों की शाखा के रूप में स्थापित हुई थीं। इस तीर्थ स्थल को प्रकृति ने अपनी भरपूर छटा से संवारा, इतिहास ने स्तुत्य गौरव प्रदान किया और अधयात्म ने इसे तपोभूमि बनाकर निर्वाण के कारण सिद्ध क्षेत्र बनाया। भव्य जिनालयों के अतिरिक्त इस पर्वत के चमत्कारी स्थल भी चर्चित हैं। एक तो 'नारियल कुण्ड', जो एक शिला में नारियल के आकार का कटा हुआ है। दूसरा 'बाजनी शिला' एक विशेष शिलाखंड, जिसे बजाने से धातुई प्रतिध्वनि मिलती है। अधिकांश जिनालय प्राचीन मन्दिर निर्माण शैली पर निर्मित हैं। इनमें मन्दिर संख्या 52 प्राचीन शैली का विशाल जिनालय, मन्दिर संख्या 59 गुम्बज वाला मदिर और मन्दिर संख्या 6 की रचना मेरू शैली पर आधारित है। चक्कीनुमा होने के कारण इसे 'पिसनहारी का मन्दिर' भी कहा जाता है।[1]

जिनालय

सोनागिरि का 57 मुख्य जिनालय तीर्थंकर चन्द्रप्रभ का है, जो प्रकृति के क्रीड़ाकंन में अपनी विशालता, रमणीयता सिद्धता के लिये विख्यात है। इस जिनालय में मूलनायक तीर्थंकर चन्द्रप्रभ की 12 फुट ऊँची कायोत्यर्ग प्रतिमा है। शिल्पकार ने इस मूर्ति में देशी पाषाण पर सर्वांग शौष्ठव का इतना सजीव उत्कीर्णन किया है कि चन्द्रप्रभ की विहंसित और ध्यानस्थ मूर्ति के सामने जाते ही दर्शक भाव विभोर हो नतमस्तक हो जाता है। इसके गर्भगृह में दो लेख देवनागरी लिपि में हैं। एक शिलालेख में 1233 विक्रम संवत अंकित है। चन्द्रप्रभ प्रतिमा के एक शिलालेख में संवत् 335 मात्र ही पढ़ने में आता है। विद्वानें का मत है कि यह 1335 संवत् रहा होगा। प्रथम अंक 1 दब या मिट गया प्रतीत होता है। ऐसा प्रतीत होता है कि यह प्रतिमा पर्वत में ही उकेरी गई है। आगे इसी जिनालय में 6.50 फुट ऊँची पार्श्वनाथ तीर्थंकर की प्रतिमा है। आगे की वेदिका पर तीर्थंकर नेमीनाथ, पार्श्वनाथ, चन्द्रप्रभ और शांतिनाथ की श्वेतवर्ण प्रतिमायें है। अंत में 9 फणों वाली पद्मासन मुद्रा में सुपार्श्वनाथ की मूर्ति है, जिसका चिन्ह स्वस्तिक नीचे अंकित है। चन्द्रप्रभ भगवान के विशाल मन्दिर के आगे मानस्तम्भ है।

मेला आयोजन

पर्वत पर प्रकृति की क्रीडा, मन्दिर की सतत् भक्ति, मानस्तंभ और सरोवर आदि इस तीर्थ में अत्यंत शोभायमान और मनोहारी दृश्य प्रस्तुत करते है। वर्षा ऋतु में तो यह तीर्थ स्थान और भी रमणीक हो उठता है। कल-कल करते झरने, कलरव करते पक्षी और धवल आकाश के नीचे हरियाली के गलीचों पर नाचते मोर मदमस्त हो गंजारते हैं। प्रतिवर्ष 'होली' के अवसर पर यहाँ विशाल जनपदीय मेला आयोजित होता हैं। वर्तमान प्रबंधकारिणी समिति की ओर से तीर्थ पर नवनिर्माण और सज्जा की उत्तम व्यवस्था की गई है। यात्रियों के विश्राम आदि की अच्छी सुविधायें भी लगभग निशुल्क उपलब्ध हैं। देश के केन्द्र में होने और प्राकृतिक पावन परिवेश इत्यादि अनेक कारणों से यहाँ महावीर स्वामी के सिद्धांतों पर आधरित एक 'जैन विश्वविद्यालय' स्थापित करने का प्रयास विचाराधीन है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 सिद्धक्षेत्र सोनागिरि (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 03 जुलाई, 2013।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सोनगिरि&oldid=611582" से लिया गया