ऐश्वर्या राय का फ़िल्मी सफ़र  

ऐश्वर्या राय विषय सूची
ऐश्वर्या राय का फ़िल्मी सफ़र
ऐश्वर्या राय
पूरा नाम ऐश्वर्या राय बच्चन
प्रसिद्ध नाम ऐश्वर्या राय
अन्य नाम ऐश
जन्म 1 नवंबर, 1973
जन्म भूमि मंगलोर, कर्नाटक
अभिभावक कृष्णराज राय और वृंदा राय
पति/पत्नी अभिषेक बच्चन
संतान पुत्री (आराध्या बच्चन)
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र अभिनेत्री
मुख्य फ़िल्में 'ताल', 'देवदास', 'हम दिल दे चुके सनम', 'गुरु', 'ब्राइड एंड प्रिजुडिस', 'सरकार राज', 'रेनकोट', 'जोधा अकबर', 'धूम 2', 'ऐ दिल है मुश्किल' आदि।
पुरस्कार-उपाधि पद्म श्री, फ़िल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री (2 बार), आइफा दशक की सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री
प्रसिद्धि अभिनेत्री, मॉडल
नागरिकता भारतीय
संबंधित लेख अमिताभ बच्चन, जया बच्चन, अभिषेक बच्चन
अन्य जानकारी ऐश्वर्या राय ने 1994 में 'मिस इंडिया' प्रतियोगिता की उपविजेता रहने के बाद उसी साल मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता जीती थी।
अद्यतन‎

ऐश्वर्या राय ने वर्ष 1997 में अपने सिने कैरियर की शुरुआत तमिल फ़िल्म "इरुवर" से की। जिसे मणिरत्नम ने निर्देशित किया। इस विवादस्पद फ़िल्म में उन्हें दक्षिण भारत के जाने माने अभिनेता मोहन लाल के साथ काम करने का मौक़ा मिला। विवाद के कारण इसे व्यावसायिक सफलता तो नहीं मिली लेकिन ऐश्वर्या राय ने अपने दमदार अभिनय से समीक्षकों का दिल जीत लिया और वे सर्वश्रेष्ठ नावोदित अभिनेत्री ख़िताब जीतने में जरुर सफल रही। फ़िल्म इरुवर को कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया। वर्ष 1997 में ही ऐश्वर्या राय ने बॉलीवुड में भी क़दम रखा और बॉबी देओल के साथ "और प्यार हो गया" में काम किया। दुर्भाग्य से यह फ़िल्म टिकट खिड़की पर विफल साबित हुई। इसके बाद 1998 में ऐश्वर्या राय ने एस.शंकर की तमिल फ़िल्म "जीन्स" में काम किया। इस फ़िल्म की व्यावसायिक सफलता के बाद ऐश्वर्या राय फ़िल्म इंडस्ट्री में कुछ हद तक अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गयी।

'हम दिल दे चुके सनम' ने सिने कैरियर उठाया

वर्ष 1999 में संजय लीला भंसाली की फ़िल्म "हम दिल दे चुके सनम" ऐश्वर्या राय के सिने कैरियर की महत्त्वपूर्ण फ़िल्म साबित हुई। सलमान खान और अजय देवगन जैसे मंझे हुये सितारे की मौजूदगी में भी ऐश्वर्या ने फ़िल्म में नंदिनी के किरदार को रूपहले पर्दे पर जीवंत कर दिया। इस फ़िल्म में दमदार अभिनय के लिये फ़िल्म फेयर पुरस्कार से भी मिला।

वर्ष 2000 अहम साबित हुआ

वर्ष 1999 में ही ऐश्वर्या राय को प्रसिद्ध निर्माता निर्देशक सुभाष घई की फ़िल्म "ताल" में काम करने का अवसर मिला। इस फ़िल्म में ऐश्वर्या ने एक ऐसी ग्रामीण लड़की मानसी का किरदार निभाया जो पॉप सिंगर बनने का सपना देखा करती है। फ़िल्म ने भारत में व्यावसायिक सफलता दर्ज की, साथ ही उसने ओवरसीज ख़ासकर अमेरिका में टॉप 20 फ़िल्मों में अपना नाम दर्ज कराया। इस फ़िल्म में अपने दमदार अभिनय के लिये वह सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फ़िल्म फेयर पुरस्कार के लिये भी नामांकित की गयी। वर्ष 2000 ऐश्वर्या राय के सिने कैरियर के लिये अहम वर्ष साबित हुआ। इस वर्ष उनकी फ़िल्म "जोश" प्रदर्शित हुई जिसमें उन्होंने शाहरुख खान की बहन की भूमिका निभायी। इसके साथ ही ऐश्वर्या राय की "हमारा दिल आपके पास है" और "मोहब्बते" जैसी कामयाब फ़िल्में भी प्रदर्शित हुई जिन्होंने टिकट खिड़की पर शानदार सफलता हासिल की। "मोहब्बतें" फ़िल्म से उन्होंने फ़िल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ सह-कलाकार का ख़िताब भी जीता।

ऐश्वर्या राय का फ़िल्मी सफ़र[1]
वर्ष फ़िल्म
2016 ऐ दिल है मुश्किल
सरबजीत
2015 जज़्बा
2010 गुजारिश
एक्शन रिप्ले
रोबोट
रावण
2009 द पिंक पेंथर
2008 सरकार राज
जोधा अकबर
2007 प्रोवोक्ड
गुरु
2006 धूम-2
उमराव जान
द मिस्ट्रेस ऑफ स्पाइसेस
2005 बंटी और बबली
शब्द
2004 रेनकोट
बल्ले बल्ले! फ्रॉम अमृतसर टू एल.ए.
क्यों! हो गया ना
खाकी
2003 कुछ ना कहो
दिल का रिश्ता
चोखेर बाली
2002 शक्ति - द पावर
देवदास
23 मार्च 1931 शहीद
हम किसी से कम नहीं
हम तु्म्हारे हैं सनम
2001 अलबेला
2000 मोहब्बतें
ढाई अक्षर प्रेम के
हमारा दिल आपके पास है
जोश
मेला
सनम तेरे हैं हम
1999 ताल
हम दिल दे चुके सनम
आ अब लौट चलें
1998 जीन्स
1997 और प्यार हो गया
1997 इरुवर (तमिल में)

देवदास की पारो सबको खूब भायी

वर्ष 2002 में ऐश्वर्या राय को शरत चंद्र चट्टोपाध्याय के मशहूर उपन्यास "देवदास" पर बनी फ़िल्म में काम करने का अवसर मिला। संजय लीला भंसाली की इसी नाम से बनी फ़िल्म में पारो के अपने किरदार से उन्होंने दर्शको का दिल जीत लिया। इस फ़िल्म के लिये दूसरी बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फ़िल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित की गयी। इस फ़िल्म को कांस फ़िल्म समारोह में विशेष स्क्रीनिंग के दौरान दिखाया गया। इसके अलावा उन्होंने कुछ बांग्ला फ़िल्में की हैं। वर्ष 2003 में ऐश्वर्या राय को रवीन्द्र नाथ टैगोर के मशहूर उपन्यास 'चोखेरबाली' पर आधारित फ़िल्म चोखेरबाली में काम करने का अवसर मिला। रितुपर्णा घोष निर्देशित इस फ़िल्म में अपने सशक्त अभिनय से दर्शको का दिल जीत लिया। उसी वर्ष ऐश्वर्या राय ने फ़िल्म निर्माण के क्षेत्र में भी क़दम रख दिया और फ़िल्म "दिल का रिश्ता" का निर्माण किया लेकिन यह फ़िल्म व्यावसायिक रूप से सफल नहीं रही। उनकी अगली अभिषेक बच्चन के साथ "कुछ न कहो" बुरी तरह पिटी पर अभिषेक बच्चन और ऐश्वर्या के बीच एक नए रिश्ते की शुरुआत हुई तो आगे चलकर उनकी शादी में तब्दील हुई। "खाकी" में अमिताभ बच्चन के विपरीत उन्होंने पहली बार नकारात्मक भूमिका अदा की और दर्शकों को एक बड़ा झटका दिया। वर्ष 2005 में ऐश्वर्या राय को यश चोपड़ा के बैनर तले बनी फ़िल्म "बंटी और बबली" में अतिथि कलाकार के रूप में काम करने का अवसर मिला। अभिषेक बच्चन और रानी मुखर्जी की मुख्य भूमिका वाली इस फ़िल्म में ऐश्वर्या राय के महज एक आईटम गीत "कजरारे कजरारे तेरे कारे कारे नैना" में नजर आई इसके बावजूद उनका जादू दर्शकों के सर चढ़कर बोलता रहा।

उमराव जान में ऐतिहासिक किरदार

वर्ष 2006 में ऐश्वर्या राय ने जे. पी. दत्ता की महत्वाकांक्षी फ़िल्म "उमराव जान" में उमराव जान के ऐतिहासिक किरदार को रूपहले पर्दे पर साकार किया। उर्दू लेखक मिर्जा हादी रूसवा के बहुचर्चित उपन्यास "उमराव जान अदा" की कहानी पर आधारित यह फ़िल्म टिकट खिड़की पर विफल साबित हुई, लेकिन ऐश्वर्या राय अपने किरदार से समीक्षको के साथ साथ दर्शको का भी दिल जीतने में सफल रही।

धूम 2, गुरु और जोधा अकबर

2006 की फ़िल्म धूम 2 में उन्होंने यशराज फ़िल्मों में वापसी की और उनका हृतिक रोशन के साथ चुंबन दृश्य सुर्ख़ियों में रहा। इस फ़िल्म में उन्होंने ने एक बार फिर से नकारात्मक किरदार निभाया और दर्शको का भरपूर मनोरंजन किया। वर्ष 2007 में ऐश्वर्या राय को प्रसिद्ध निर्माता निर्देशक मणिरत्नम की फ़िल्म "गुरु" में काम करने का अवसर मिला और यहाँ भी ऐश्वर्या राय ने अपने सशक्त अभिनय से फ़िल्म को सुपरहिट बनाने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई। 2008 में हृतिक रोशन के साथ आशुतोष गोवारिकर की फ़िल्म "जोधा अकबर" उस साल की सबसे सफल फ़िल्मों में रही और दोनों की जोड़ी दर्शकों को बेहद पसंद आने लगी। जिसमें ऐश्वर्या राय ने जोधा का ऐतिहासिक किरदार को निभाया।

हॉलीवुड में

ऐश्वर्या राय का कैरियर हमेशा उतार चढ़ाव से भरा रहा है। हिन्दी सिनेमा जगत् के अलावा उन्होंने कई अंग्रेज़ी फ़िल्मों में भी काम किया है, जिसमें पिंक पैंथर 2, द लास्ट लेजन, प्रोवोक्ड, ब्राइड एंड प्रिजुडिस मुख्य हैं। फ़िल्मों के अलावा अगर आज ऐश्वर्या राय की लोकप्रियता में बढ़ोत्तरी हुई है तो उसका मुख्य कारण उनके द्वारा किए गए विज्ञापन हैं। ऐश्वर्या कई अंतरराष्ट्रीय कंपनियों की ब्रांड आम्बेसडर रही हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. यह सूची 2016 तक प्रदर्शित फ़िल्मों की है।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ऐश्वर्या_राय_का_फ़िल्मी_सफ़र&oldid=610794" से लिया गया