गंगाधर (मध्य प्रदेश)  

गंगाधर पश्चिमी मालवा, मध्य प्रदेश में स्थित ऐतिहासिक स्थान है। यह स्थान पुरातत्त्व के दृष्टिकोण से महत्त्वपूर्ण है। यहाँ से ऐतिहासिक महत्त्व की कई अमूल्य वस्तुएँ प्राप्त हुई हैं।

  • इस स्थान से 480 मालव संवत[1] का एक अभिलेख प्राप्त हुआ है, जिसमें इस प्रदेश के तत्कालीन राजा विश्ववर्मन के मंत्री मयूराक्षक द्वारा एक भगवान विष्णु के मंदिर, एक मातृका या देवी का मंदिर तथा एक विशाल कूप के बनवाए जाने का उल्लेख है।
  • यहाँ उल्लिखित नाम रहित संवत मालव-संवत ही जान पड़ता है, क्योंकि विश्ववर्मन के पुत्र बंधुवर्मन के प्रख्यात मंदसौर अभिलेख में 493 मालव-संवत का उल्लेख है।[2]
  • अभिलेख से सूचित होता है कि तांत्रिक उपासना भारत के इस भाग में 5वीं शती ई. में ही प्रचलित हो गई थी।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. =423-24 ई.
  2. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 264 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=गंगाधर_(मध्य_प्रदेश)&oldid=301574" से लिया गया