सागरताल ग्वालियर  

ग्वालियर का सागरताल सबसे प्राचीन ताल माना जाता है। यह लगभग एक हज़ार वर्ष पुराना है। सिंधिया राजवंश द्वारा समय-समय पर इसकी मरम्मत व सुरक्षा की जाती रही है।

  • वर्तमान में सागरताल में छ: बारादरी व चार छतरियाँ बनी हुई हैं। इनमें कई आदमी एक साथ बैठ सकते हैं।
  • अब इस ताल में जलमंजनी फैली हुई है तथा इसका जल भी काई की वजह से हरा हो गया है।
  • सागरताल के चारों ओर घनी झाड़ियाँ उगी हुई हैं तथा लोग यहाँ ताजियों व मूर्तियों का विसर्जन भी करते हैं, इस कारण ताल में गंदगी व्याप्त है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सागरताल_ग्वालियर&oldid=316323" से लिया गया