मंदसौर  

मंदसौर भारत के मध्य प्रदेश राज्य में स्थित एक महत्त्वपूर्ण शहर है। पुरातात्विक और ऐतिहासिक विरासत को संजोए हुए मंदसौर उत्तरी मध्य प्रदेश का एक ऐतिहासिक ज़िला और प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। भारत की आज़ादी से पूर्व तक मंदसौर ग्वालियर रियासत में सम्मिलित था। ऐतिहासिक महत्त्व और भारत की सांस्कृतिक विरासत के कई अमूल्य चिह्न यहाँ दिखाई देते हैं। हिन्दू और जैन मन्दिरों के लिए भी मंदसौर प्रसिद्ध है।

इतिहास

प्राचीन समय के 'दशपुर' से मंदसौर का अभिज्ञान किया जाता है। महाकवि कालिदास ने 'मेघदूत'[1] में इसकी स्थिति मेघ के यात्राक्रम में उज्जयिनी के पश्चात् और चंबल नदी के पार उत्तर में बताई है, जो वर्तमान मंदसौर की स्थिति के अनुकूल ही है-

'तामुत्तीर्य ब्रज परिचितभ्रू लताविभ्रमाणां, पक्ष्मोत्क्षेपादुपरिविलसत्कृष्णसारप्रभाणां, कुंदक्षेपानुगमधुकरश्रीजुपामात्मबिंम्बं पात्रीकुर्व्वन् दशपुरवधूनेत्रकौतूहलनाम्'।

पर्यटन स्थल

ऐतिहासिक विरासत को संजोए हुए मंदसौर मध्य प्रदेश का ऐतिहासिक ज़िला है। यह 5530 वर्ग कि.मी. के क्षेत्र में फैला हुआ है। आज़ादी के पहले यह ग्वालियर रियासत का हिस्सा था। मंदसौर हिन्दू और जैन मंदिरों के लिए ख़ासा लोकप्रिय है। यहाँ के प्रसिद्ध मन्दिर हैं-

  1. पशुपतिनाथ मंदिर
  2. बाही पारसनाथ जैन मंदिर

सीमावर्ती शहर

यहाँ स्थित 'गाँधी सागर बाँध' भी प्रसिद्ध है। ज़िले में अफीम का बड़े पैमाने पर उत्पादन होता है। मंदसौर राजस्थान के चित्तौड़गढ़, कोटा, भीलवाड़ा, झालावाड़ और मध्य प्रदेश के रतलाम ज़िलों से घिरा हुआ है।

इन्हें भी देखें: दशपुर


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पूर्वमेघ 49

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मंदसौर&oldid=509166" से लिया गया