रत्नप्रभसूरि  

आचार्य रत्नप्रभसूरि

  • इनका समय विक्रम सम्वत 13वीं शती है।
  • इनकी एकमात्र तर्ककृति 'स्याद्वादरत्नाकरावतारिका' है, जो प्रकाशित है और स्याद्वाद पर अच्छा प्रकाश डालती है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=रत्नप्रभसूरि&oldid=285927" से लिया गया