भारतकोश के संस्थापक/संपादक के फ़ेसबुक लाइव के लिए यहाँ क्लिक करें।

धर्मसेन  

धर्मसेन जैन भट्टारक थे। इनका समय विक्रम संवत 15वीं शताब्दी ठहरता है। इनके द्वारा प्रतिष्ठित पार्श्वनाथ, अजितनाथ और वर्धमान तीर्थंकरों की प्रतिमाएँ जैन मंदिर, हिसार में विराजमान हैं।

पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=धर्मसेन&oldid=646317" से लिया गया